Realize

quote20180122123422

Advertisements

फिर से…

चलो फिर से आज जन्नत में जहन्नुम का नज़ारा दिखाते हैं…

चलो फिर से आज प्यार में धोखे का फसाना सुनाते हैं…

वैसे तो लोग उस दर्द भरे किस्से के लफ्ज़ आज भी फिज़ाओं में बहाते हैं…

लेकिन चलिये जाने दीजिये कौन सा हम आपको एक पल में आँसुओं के सैलाब और दुखों के पहाड़ तले दबाना चाहते हैं!!

दर्द

आज फ़िर से दिल भर आया है इतना…

कि शब्दों के जाम छलका ही लिये।।

आखिर बहुत कम ही दर्द मिला है ऐसा…

जिन्हें आँसुओं के सैलाब बहला न लिये।।

~ नन्दिता |

Toughest ever…

In today’s world even to weep falsely to bluff others and their feelings is not such skillful work to do…

But

To hide your pain and tears of deep anguish, perfectly behind a simple smile is and will surely be the toughest thing to do, since these tears go on to become heavier everytime with the increasing intensity of heartlessness  and detoriating humanity.

                                    – Nandita.