Back Again

It’s not the end yet,

I am back again!

Soul broken hopes shattered;

No! I am no more that human in vain!

You burried me thinking me ‘No more of use’.

But oh devil-dear, you planted the phenomal woman this way!

Don’t you dare to gaze! My radiance will give you spooky chills and defuse.

You betrayed…oh what a positive start of day.

You were gone in silence and dark; leaving me scared,

But Thanks! I really did not know i will stand out so mighty and brave.

Now the wheel of time will turn the face of you-towards you,

And then ye mark that every fallacy hath your humor.

That every filthy mark a cinaedulus hath, belongs to you too!

And then you’ll remember the teachings of your worthiest parents that you took as ‘zero’ ever, and make regrets and dissolve in it forever!

Advertisements

प्रियतम

प्रियतम छवि नैनन बसी तो फिर क्या देस-विदेस…

“जल्द तुझे भी ले जाऊंगा” कह प्रियतम गये परदेस।

गया हर दिन नयी आस में पर मिला न कोई सन्देस,

सोच यही सब सावन बीते कि-

प्रियतम छवि नैनन बसी तो फिर क्या देस-विदेस!
तभी शोक का उमड़ा सागर सा, मन हो विचिलत यूँ हाय!

नहीं लौटे प्रियतम मेरे, अपने भी हुए पराए!

छोड़ गये अब साथ हमारा माता-पिता भी परम लोक समाये।

फिर भी ना लौटे प्रियतम मेरे….अंधकार सा हुआ जग मेरा…

मन रह-रह कर बुलाए-प्रियतम कि बस एक झलक हो तो रौशनी भर जाये!
हुए मुग्ध थे प्रिय यूँ मेरे छाई तन-धन की वासना,

हूईं अनसुनी “उनकी रक्षा करना” कीं सब कामना!

ना जाने कैसे भूल गये अपनी प्रिया को जानना?

भूला दिया सारा जग मैने बस बची थी अब एक आसना-

“प्रियतम छवि नैनन बसी तो फिर क्या देस-विदेस”।

 सात वर्ष तब हुए थे पूरे जब प्रियतम लौटे फिर देस,

अपनी पत्नी संग फिर एक बार इस घर में किया प्रवेश।

शोक-विलय कि अश्रुधार सा निकला सब आशाओं का  झूठा वेश…

ना प्रियतम छवि नैनन बसी स्वदेस भी हुआ परदेस!!

वो…

आज वो बेवफा-बेहया अपनों की भावनाओं के साथ खेल खेल रहा था।

अर्धान्गनी को छलकर, परिवार को छोड़कर, शान से एश व आराम गिन रहा था।

अब क्या बताऊँ कितना मूर्ख था वो,

कि अपनी मलिन इच्छाओं और झूठी शान के साये में खुद अपनी बरबादी के दिन बुन रहा था!!

Knife

Yesterday i discovered a knife emerging close from my chest.

And so skillfully done by a hand   Whom i knew at my best.

That owner of hand once owned my heart                                             with Unfailing trust and relation so pure.

But i didn’t know that he had intentions so dark                                  To ‘use and throw’ he made his mind for sure.

 The one i wanted wasn’t the one who deserved me                                       His gestures good but intentions so mean.

Ah, i pulled it through…                   And licked that knife clean.

Yet another trophy                                For my dimnishing faith in love and humanity….


उसने…

एक शख्स जिसे उसने अपने अस्तित्व से तौला था,

अपना नाम भूलकर उसके नाम से कहलाने का सपना देखा था,

उसी बदशख्स ने उसके जिस्म को इस्तेमाल कर उसकी रूह को टुकड़ों मे तोड़ा था…

उसके सम्मान को लज्जित कर उसे वस्तु कि तरह छोड़ा था…

और दुनिया ने भी सिर्फ उसके प्यार को उसकी चरित्रहीनता की नज़र से देखा था…

लेकिन उसकी रूह के टूटे हर एक टुकड़े से निकलते दंशित प्यार के काले रंग से,

किस तरह उसने उन रूह की दरारों को काले अंधेरे में छिपाया था, ये सिर्फ रब ने देखा था।।

Lose

Being with some other woman, other than the one whom you claim be,by words that she is yours, Doesn’t make you a ‘man’.

It make you Lose…

Your self-esteem, your values, your character. 

You didn’t get LOVE..

You gained LIES…deceit and stolen affections.

Which didn’t belong to YOU.

And in the end one day(it might be the last day of your life) but for sure you will realize that the girl whom you betrayed and left as an option could have been the one to be holding your hand and saying “I am with you” when this mortal world would be about to reject you and you could have been resting your head in her heveanly lap just if you could have been all the way loyal to her…

त्याग

आज फिर से तुम्हारी यादों का दिया जलाया है हमने,

ना जाने कितनी बार इन अश्कों से अपना दामन भिगाया है हमने।

फिर भी हर साल कि तरह इस सालगिरह भी अपना फर्ज़ निभाया है हमने,

पत्नि की तरह तुम्हारे धोखे को भी दुनिया के सामने मजबूरी का नाम दिलाया है हमने।।

 # किसी भूल-चूक के लिये छमा। परिवेश की स्थिति को देखते हुए शब्दों से उकेरे हुए कुछ विचार।☺