रिश्ता

जिस घर की नींव हमने ‘प्यार‘ रखी थी…

उसे तुम्हारे ‘धोखे‘ के दीमक ने खोखला कर दिया!

और तुम अब भी उस पर बने ‘शीशे‘ के मकान में…

सिर्फ उसकी “चमक” के लिये रहना चाहते हो!!

जहां:-

घर- रिश्ता था   और…

मकान- नाम का रिश्ता बन गया।