APOCALYPSE: The Day Of Reckoning

Author: Sufyan Bin Uzayr

Price: ₹276.50, Pages: 256

From Sufyan Bin Uzayr comes his first work of fiction- ‘The Apocalypse’ and his third book after ‘Sufism: A brief history’ and ‘Concrete5 for Developers’. The book is published by Authorspress.

The story is knit out of unique themes of the eerie side of nature and spritual beliefs in human life. i.e. the end of your world within the end of complete world.

The story perfectly splendors out the factual face of today’s world boosted up with the power of unconditional love of a father for his daughter.

The author has excelled in engrossing the readers till the end of the story by creation of repeated suspense and use of gothic elements.

The climax of the story i.e. Silas- the protagonist of the story discovers that he is still alive after attempting suicide by being defeated from long enduring problems, adds on to the charm of story.

The end of the story is so emotional and true the it will surely leave you spellbound.                                                 If you are the one seeking for the combo of feelings, human emotions and repent with a thrill of facing a completely unmatched side of nature then this book is a must read for you!                                                         The best part is that the book fits well into the ‘suitable-shelf’ for all the categories of ages and especially the youths will find it most fascinating.

The novel imparts a deep understanding of relations and consequences of our works, good or bad. The stylistic devices used with a wide spectrum of good vocabulary appreciates the hard work and deep knowledge of Sufyan Bin Uzayr.

क्यूँ

कहते हैं जो कुछ होता है उसके पीछे कोई न कोई वजह होती है, 

मगर  सच यह है कि उस वजह के पीछे छिपे हर क्यूँ का जवाब नहीं होता….

जब एक लड़की के साथ जुर्म होता है

तब वजह गिनाने वाले कुछ इस तरह कहते हैं-

“बड़े बाप की बिगड़ी औलाद”

“कपड़े इतने छोटे होंगे तो यही होगा ना”

“इतनी रात को क्या सड़क नापने गई थी बाहर?”

अगर आप इतने बड़े ञानी हैं तो जुर्म करने वाले का भी पथप्रदर्शशन क्यूँ नहीं किया? या फिर कुछ तो टिप्पड़ी करने को ही जीवन का सुख समझते हैं तो याद रखें की आपके साथी कल भी वही होंगे मगर पीड़ित कोई आपका अपना भी हो सकता है! 

याद रखिये कि आपका काम तो टिप्पड़ी कर खत्म हो गया लेकिन उस लड़की का जीवन रही सोचने में निकल जाता है कि क्यूँ आखिर क्यूँ!

खड़े होकर तमाशा देखने वाले बहुत होते हैं। 

कल को जब खुद पे बीते तो ये सोचने में समय व्यर्थ ना करे की कोई मदद करने आगे नहीं आया आखिर क्यूँ!

लड़की को आज भी शाम के सात बजे के बाद बाहर रहने पर रोक लगाना तो ये ना सोचना कि बिटिया कुछ बन क्यूँ नहीं पाई! 

आज-कल छोटी-छोटी बातों पे लोग खासकर (किशोर वर्ग) एक दूसरे कि माताओं-बहनों के लिये अपशब्द बोलते हैं। तो ये भी याद रखें कि आपका आवेश और अगले कि मान हानि कि भरपाई आपके ही कहे अपशब्द आपके अपने के लिये सत्य बनकर बदला न ले लें।

तब ऐसा कहा हि क्यूँ का जवाब नहीं मिलेगा!

और जो लोग कपड़ों को लेकर बड़े जागरूक हैं वो ये भी जानें कि केवल कपड़ों का कुसूर नहीं क्यूँकी हाल ही में शर्म से परे, जुर्म एक छह महीने की बच्ची के साथ हुआ था।
कपड़े कैसे भी हों तन पर सज के उसे परदा करते हैं मगर आपकी नज़र तो आपके चिरित्र का आईना है साहब! कृपया अपना आईना साफ रखियेगा।

# ऊपर लिखे शब्द भावनाओं से जुड़े बेहद संवेदनशील मुद्दों को उठाते हैं किसी भूल-चूक के लिये छमा। समाज के इस नये उभरते चहरे पर कुछ विचार।






वादा

आज की इस तारीख की ख़ासियत का तुझे इल्म भी है?

 आज पूरे हुए उसी पुराने वादे का मन में ज़रा ज़िक्र भी है?

 जिसको सर आँखों पे रख हम हर रोज़ तनहाई को आब की तरह पी गये,

ये बता जान-ए-जिगर मेरे उस प्यार के लिये तेरे दिल में इज्जत की ज़रा सी किश्त भी है?

Sacrifice

Today again the flame of your memories is burning ablaze in my heart…

Today again uncountable times my girdle has gone wet by these unending tears…

But still like these several years even today on our anniversary i have fulfilled my duty.

Today again just like a wife i have made this world believe in restraints rather than your betrayal!

(Translated from Hindi Post “त्याग”)

ज़माना

एक ज़माना वो था- जब खाना साफ और शांत दुकानों पर, और जूते बाज़ार की सड़कों पर बिकते थे।

और एक ज़माना ये भी है- जब खाना सड़क किनारे बिकता है, और जूते ए.सी. शोरूम में सजते हैं।।
वाकई हम कितने माॅडर्न हो गये हैं!!

Life Goes On!

If we take that worst day of life and think,

Why it happened that day? Why only me whereas there were many other people who seemed to be more welocoming to that incident. THEN WHY ME?

And we have no answer. We break down in distress and think that if we could somehow escape this world- Suicide.

Well, when we know that we were not in a way welcoming that wrong, we know that we,at our end were right that day. Then there should have been no  possibility of that happening to me. But still it happened.

When there are no possibilities that meet our way, then we should sometimes believe in impossibilites.

So, maybe what happened with us was a reaction to some wrong we did to someone…someday…maybe not in this life maybe, the previous life. 

We should learn and move on. Maybe being happy that yes we atleast had the punishment and now we no more have the burden of that wrong on our soul. ☺